ekaansh latest diwali special

दिवाली स्पेशल: घर में धन वर्षा के लिए लगाइए विंड चाइम

ekaansh latest diwali special

धन प्राप्ति किसे अच्छी नहीं लगती और अगर कम प्रयासों से अधिक धन प्राप्त हो जाए तो क्या कहना! फेंगशुई में विंड चाइम को ध्वनि तरंगो द्वारा धन तथा सुख सम्पन्नता लाने वाला माना गया है। विंड चाइम को एक डेकोरेशन या शो-पीस ना मानकर घर में सकारात्मक ऊर्जा प्रदान करने वाला माना जाता है। ऐसा कहा जाता है इससे घर में खुशहाली आती है।

विंड चाइम आपके घर की सकारात्मक ऊर्जा को तो बढ़ता ही है साथ ही आपके लिए किस्मत के दरवाजे भी खोलता है। विंड चाइम आपके घर की नकारात्मक ऊर्जा को कम करता है जिससे आपका जीवन सुखमय होता है। इसकी ध्वनि आपके घर में सुख, शांति, समृद्धि तथा वैभव लाती है। लेकिन अक्सर लोगों को यह पता ही नहीं कि कौन सी विंड चाइम घर में लगानी चाहिए। तो आइये जानते है विंड चाइम्स के बारें में विस्तार पूर्वक।

विंड चाइम्स हमेशा खोकली नली वाली ही लेनी चाहिए। साथ ही उसका मटेरियल और उसमे लगी नलियों को भी अच्छे से परख लें। ठोस विंड चाइम्स नहीं लेनी चाहिए।

अगर आप बांस का बना विंड चाइम खरीद रहें हैं तो इसमें नलियों की संख्या 3 से 4 होनी चाहिए। बांस से बनी विंड चाइम सर्वोत्तम मानी जाती है।

अगर आप 7 नलियों वाली सफ़ेद या सिल्वर रंग की विंड चाइम को अपने घर की पश्चिम दिशा में लगाएंगे तो आपके पारिवारिक रिश्तों में सुधार आता है।

अगर आप 6 नालियों वाली पिले रंग की विंड चाइम को उत्तर – पश्चिम दिशा में लगाएंगे तो आपको पैसा और यश दोनों की प्राप्ति होगी। साथ ही सकारात्मक ऊर्जा का संचार होता है।

यदि आप स्टील या पीतल से बना विंड चाइम खरीद रहें हैं तो ऐसी विंड चाइम में 6-7 रोड / नलियां ही काफी होती हैं। पांच नालियों वाली विंड चाइम को घर पर लगाने से घर में मौजूद नकारात्मक ऊर्जा समाप्त होती है।

धातु के बने विंड चाइम को पश्चिम या उत्तर-पश्चिम दिशा में लगाने से भाग्य उदय होता है क्यूंकि यह  दिशा धातु की दिशा मानी जाती है। अगर आप पिले रंग की विंड चाइम को उत्तर-पश्चिम दिशा में लगाए तो यह आपकी नौकरी में तरक्की लेकर लाता है।

लकड़ी और बांस के बने विंड चाइम को पूर्व या दक्षिण-पूर्व दिशा में लगाने से घर परिवार में सुख और समृद्धि आती है। अगर आप 6-7 नलियों वाली विंड चाइम को लगाते हैं तो ये आपकी किस्मत को बुलंद करती है। साथ ही आपके लिए भाग्य के दरवाजे भी खोल देती है।

नोट: कभी भी धातु के विंड चाइम को पूर्व में तथा लकड़ी के विंड चाइम को दक्षिण-पश्चिम दिशा में नहीं लटकाना चाहिए। यह अशुभ फल देता है। साथ ही नकारात्मक ऊर्जा को बढ़ाता है। यदि आपको उपरोक्त दी गई जानकारी अथवा यह लेख अच्छा लगा हो तो कृपया कर के हमारे चैनल (#ekaansh) को फॉलो / सब्सक्राइब जरूर करें ताकि आपको इसी प्रकार के लेख, जानकारियां और खबरें सबसे पहले मिलती रहे। साथ ही अपनी पसंद की न्यूज़ को लाइक और शेयर भी जरूर करें जिससे दूसरे लोग भी इसका लाभ उठा पाएं। अगर आपका कोई प्रश्न हो तो कमेंट कर के हम से जरूर पूछें।

नोट: उपरोक्त दी गईं जानकारियाँ, सिफारिशें और सुझाव प्रकृति में सामान्य हैं। यदि आप स्वयं पर इसका प्रयोग करना चाहते हैं तो पहले एक पंजीकृत या प्रमाणित पेशेवर या ट्रेनर से परामर्श जरूर कर लें। उसके उपरान्त ही इस सलाह पर अमल कीजिये।

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

10 + seventeen =