Ekaansh Entertainment
|

फिल्म समीक्षा: औंधे मुँह गिरी फिल्म बाज़ार

हिन्दुस्तान हॉलीवुड की मूवी की थीम चोरी कर के मूवी बनाने की पुरानी परंपरा रही है। इसी क्रम में 1987 में आई हॉलीवुड मूवी वॉल स्ट्रीट का यह हिंदी वर्जन है। भले ही हम में से कम ही लोग शेयर मार्किट के बारे में जानते हैं परन्तु हिन्दुस्तान में शायद ही कोई व्यक्ति हो जिसने हर्षद मेहता का नाम नहीं सुना हो।

इस फिल्म की सबसे बड़ी कमजोरी इसकी स्क्रिप्ट है। अगर इसकी स्क्रिप्ट कसी हुई होती तो यह शायद इस साल की सफल फिल्मो में शुमार हो सकती थी। अदाकारी के मामले में इस फिल्म में सैफ अली खान, चित्रांगदा सिंह, रोहन विनोद मेहरा सभी ने अच्छा अभिनय किया है। परन्तु अच्छी स्क्रिप्ट ना होने और कसा हुआ डायरेक्शन की कमी खलती है। इस फिल्म के निर्देशक गौरव चावला है।

इस फिल्म का एक और कमजोर पक्ष है इसके गाने। इस फिल्म में बहुत सारे गाने है जो की कहीं कहीं पर जबरदस्ती ठूसे हुए लगते हैं। जब भी दर्शकों को कहानी में मज़ा आने लगता है वैसे ही कोई गाना आकर काम खराब कर देता है।

हमारी ओर से इस फिल्म की रेटिंग 2/5 की दी जा रही है। अगर आप सैफ अली खान के फैन है तो यह फिल्म जरूर देखिए। उनका अभिनय आपको ओमकारा के लंगड़ा त्यागी की याद दिला देगा। आप इस फिल्म के बारें में अपनी राय कमेंट कर के जरूर बताएं।

यदि आपको उपरोक्त दी गई जानकारी अथवा यह लेख अच्छा लगा हो तो कृपया कर के हमारे चैनल (#ekaansh) को फॉलो / सब्सक्राइब जरूर करें ताकि आपको इसी प्रकार के लेख, जानकारियां और खबरें सबसे पहले मिलती रहे। साथ ही अपनी पसंद की न्यूज़ को लाइक और शेयर भी जरूर करें जिससे दूसरे लोग भी इसका लाभ उठा पाएं। अगर आपका कोई प्रश्न हो तो कमेंट कर के हम से जरूर पूछें।

नोट: उपरोक्त दी गईं जानकारियाँ,  सिफारिशें और सुझाव प्रकृति में सामान्य हैं। यदि आप स्वयं पर इसका प्रयोग करना चाहते हैं तो पहले एक पंजीकृत या प्रमाणित पेशेवर या ट्रेनर से परामर्श जरूर कर लें। उसके उपरान्त ही इस सलाह पर अमल कीजिये।

Image Copyright: India Today

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

3 + eighteen =