गोलू – मोलू के हंसी के फव्वारे (सीरीज़ – 13)

गोलू – मोलू  के हंसी के फव्वारे -53

गोलू: मैंने ज़िन्दगी में जितना भी सफर कियाहै, उससे मुझे एक बातका अनुभव हुआ है?

मोलू: क्या?

गोलू: कि ट्रेन कभी पंचर नहीं होती।

गोलू – मोलू  के हंसी के फव्वारे -54

गोलू: कितना रोया था मैंमहबूबा को मोबाइल गिफ्ट करके

मोलू: क्यों?

गोलू: जब रात 3 बजे तक मैं सुनतारहा.. आप के द्वाराडायल नम्बर दूसरी लाइन पर व्यस्तहै।

गोलू – मोलू  के हंसी के फव्वारे -55

पापा: बेटा, आज तेरी मम्मी इतनी चुप-चुप क्यों बैठी है?

गोलू: मेरी गलती से

पापा:  नालायक, ऐसा क्या किया तूने ?

गोलू: मम्मी ने लिपस्टिक मांगी थीमैंनेगलती सेफेवीकिक दे दी !!!

पापा: जुग-जुग जियो मेरे लाल… भगवान ऐसा बेटा सबको दे।

गोलू – मोलू  के हंसी के फव्वारे -56

एक चोर – चोरी कर के, घर से जा ही रहा था की….. गोलू की आँख खुल गयी…

गोलू: स्कूलबैग भी ले जाकमीनें, वरना शोर मचा दूँगा
नोट: उपरोक्त चुटकले तथा जोक्स इंटरनेट से लिएगए हैं जिसपर ब्लॉग द्वारा किसी भी प्रकारका कॉपीराइट क्लेम नहीं किया जा रहाहै। अगर किसी व्यक्ति या समुदायका  किसीचुटकले या जोक्स पर कॉपीराइटक्लेम हो या उनकीभावनाएं आहात हुई हों तो वोहमे जरूरी डॉक्यूमेंट के साथईमेल कर सूचित करें। त्वरित रूप से वोचुटकला या जोक्स हटा दिया जायेगा, तथा उचित कार्यवाही की जाएगी।

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

2 + eight =